विद्यार्थी एक कोमल पौधे की तरह होता है। उसे यदि उत्तम शिक्षा, दीक्षा मिले तो वह भविष्य में विशाल वटवृक्ष बनकर पल्लवित होता है।लेकिन यह तभी संभव है, जब उसे कोई योग्य मार्गदर्शक मिल जाए। बच्चों को सही मार्गदर्शन देने के लिए उन्हें संस्कारवान बनाने के लिए 60 वर्षों से देशभर में विद्यार्थी उज्वल भविष्य निर्माण शिविर व अनुष्ठान शिविरों का आयोजन किया जा रहा है।                  

         संत श्री आशारामजी बापू आश्रम,मोटेरा में सात दिवसीय विद्यार्थी अनुष्ठान शिविर ८ से १४ मई २०२४ में होने जा रहा है । अनुष्ठान शिविर में बच्चों ने सात दिवस तक मां सरस्वती के बीज मंत्रों का अनुष्ठान करते है, उसके साथ साथ ब्यायाम , योगासन , प्राणायाम , स्वास्थ्य बर्धक टिप्स , आसानी से परीक्षा में उत्तीर्ण कैसे होंगे , खेलकूद , विभिन्न प्रतियोगिताएँ भी होती है ।

शिविर के प्रमुख वक्ता…

साध्वी रेखा बहन

साध्वी सुशीला बहन

साध्वी मनीषा बहन

साध्वी पूनम बहन

श्री वासुदेवानंद जी

शिविर के कुछ तस्वीरें…

सूर्य को अर्घ्य देते हुए विद्यार्थी

आरती का लाभ उठाते हुए विद्यार्थी

कीर्तन व नृत्त्य

सारसत्व मंत्र जप