Health Conditions

मानवाधिकारों का सतत अतिक्रमण

पिछले 11.5 से अधिक वर्षों (जेल परिहारानुसार) से संत श्री आशारामजी बापू जेल में हैं ।

उनको न बेल दी जाती है न पैरोल न फरलो जबकि सजा का चौथाई हिस्सा पूरा करने के बाद कानून द्वारा पैरोल पर बाहर आने का प्रावधान है लेकिन यह प्रावधान बापूजी के लिए लागू नहीं किया जाता ।

कोर्ट द्वारा हर बार 86 वर्षीय वयोवृद्ध संत की अर्जी को नामंजूर किया जाता है ।

2013, जब से बापूजी जेल में हैं उनका स्वास्थ्य दिन-प्रतिदिन बिगड़ता चला जा रहा है ।

Bapuji in Hospital (1)
photo_2024-03-16_15-43-09
photo_2024-03-16_15-43-13
photo_2024-03-16_15-43-18
photo_2024-03-16_15-43-25
photo_2024-03-16_15-43-34
photo_2024-03-16_15-43-44
photo_2024-03-16_15-43-49
photo_2024-03-16_15-43-53
photo_2024-03-16_15-44-05


2013 से बापूजी का स्वास्थ्य

वर्ष 2021 में भी कोरोना के गंभीर दुष्परिणामों से ICU में कई दिनों तक जूझने के बाद भी उन्हें बेल देने की अपेक्षा जेल में वापस भेज दिया गया था जो जेल उस समय covid इन्फेक्शन का हॉटस्पॉट बनी हुई थी ।

इतनी बीमारियाँ होने के बावजूद भी बापूजी द्वारा अपनी इच्छानुसार अपना इलाज कराने के लिए आज तक लगायी गयी सभी अर्जियाँ कोर्ट द्वारा खारिज कर दी गयी हैं । क्या ऐसी कोई न्यायनीति नहीं जो 11.5 से अधिक वर्षों (जेल परिहारानुसार) से कारागृह में बंद 86 वर्षीय निर्दोष संत श्री आशारामजी बापू को राहत दिला सके ?